लव शायरी कलेक्शन इन हिंदी - love shayari in hindi

Share:
love shayari in hindi: आपको इस पेज पर लव शायरी इन हिंदी कलेक्शन मिलेगा जिसमे आपको love shayari in hindi for girlfriend, love shayari in hindi for boyfriend, beautiful hindi love shayari, hindi shayari dosti, hindi shayari love sad, love shayari in english, sad love shayari, hindi love shayari for husband के साथ आपको ऐसे बहुत सारे टॉपिक पर शायरी मिलेगी जिसको आप शेयर और पोस्ट कर सकते हैं. आपको कई तरह के टॉपिक पर शायरी मिलेगी।

love shayari in hindi, shayari, love shayari, hindi shayari, romantic shayari, love sms in hindi, sad shayari in hindi, best shayari, romantic shayari on love, best love shayari, romantic shayari in hindi, best shayari in hindi, love quotes in hindi, sad love shayari, hindi me shayari, hindi sms, friendship shayari, love shayari image, love shayari in hindi for lover, latest shayari, hindi shayari collection, best love shayari in hindi, love shayari with image in hindi, new love shayari, romantic sms in hindi

लव शायरी कलेक्शन इन हिंदी - love shayari in hindi

Chahat Hai Ya Dillagi Ya Yoon Hi Man Bharmaya Hai, Yaad Karoge Tum Bhi Kabhi Kis Se Dil Lagaya Hai. चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है, याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।
Ai Shakhs Tera Saath Mujhe Har Shakl Mein Manzoor Hai, Yaadein Hon Ke Khushboo Ho, Yakeen Ho Ke Gumaan Ho. ऐ शख्स तेरा साथ मुझे हर शक्ल में मंज़ूर है, यादें हों कि खुशबू हो, यक़ीं हो कि ग़ुमान हो।
Khuda Kare Wo Mohabbat Jo Tere Naam Se Hai. Hajaar Saal Guzarne Pe Bhi Jawaan Hi Rahe. खुदा करे वो मोहब्बत जो तेरे नाम से है, हजार साल गुजरने पे भी जवान ही रहे।
Kuchh Yun Utar Gaye Ho Rag-Rag Mein Tum, Ke Khud Se Pahle Ahsaas Tumhara Hota Hai. कुछ यूँ उतर गए हो मेरी रग-रग में तुम, कि खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है।
Lat Teri Hi Lagi Hai Nashaa Sar-e-Aam Hoga, Har Lamha Zindagi Ka Sirf Tere Naam Hoga. लत तेरी ही लगी है, नशा सरेआम होगा, हर लम्हा जिंदगी का सिर्फ तेरे नाम होगा।
Tum Mil Gaye Toh Mujh Se Naraj Hai Khuda, Kahta Hai Ke Tu Ab Kuchh Mangta Nahi Hai. तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा, कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है।
Kis Kis Tarah Chhupaun Ab Main Tumhein, Meri Muskaan Mein Bhi Tum Najar Aane Lage Ho. किस किस तरह छुपाऊं अब मैं तुम्हें, मेरी मुस्कान में भी तुम नजर आने लगे हो।
तुझसे हमें प्यार बहुत है छू गया जब कभी ख्याल तेरा राज़ खुल जायेगा मोहब्बत का तेरे सीने से लगकर आज भी हमारे हो आप तेरे आगोश में सिमट जाऊॅंगा
Achhi Surat Nazar Aate Hi Machal Jata Hai, Kisi Aafat Mein Na Daal De Dil-E-Nashad Mujhe. अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है, किसी आफ़त में न डाल दे दिल-ए-नाशाद मुझे।
Yeh Toh Nahi Ki Tum Sa Jahan Mein Haseen Nahi, Iss Dil Ka Kya Karoon Yeh Behalata Kahin Nahi. ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं, इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं।
Suna Hai Le Lete Ho Har Baat Ka Badla, Aazmayenge Kabhi Tere Labo Ko Choom Ke. सुना है तुम ले लेते हो हर बात का बदला, आज़माएंगे कभी तेरे लबो को चूम के।
Bada Hi Dilkash Andaaz Hain Tumhara, Jee Karta Hai Ki Fanaah Ho Jaaun. बड़ा ही दिलकश अंदाज है तुम्हारा, जी करता है कि फनाह हो जाऊं।
मोहब्बत की दुआ हो तुम बाहों का सहारा मिल गया मेरा हाथ थाम लो दिल की बातें सुनाऊं तुझे नजाकत ले के आँखों में
लाजवाब कर देते हैं तेरे खयाल दिल को, मोहब्बत तुझसे अच्छा तेरा तसव्वुर है।
खुशबू की शुरुआत बहार से होती है, दिन की शुरुआत तेरे दीदार से होती है, हमे इंतज़ार है तेरी सदा का क्यूंकि, प्यार की शुरुआत इजहार से होती है।
ज़िक्र करता है दिल सुबह शाम तेरा, गिरते हैं आँसू बनता है नाम तेरा, किसी और को क्यों देखे ये आँखें, जब दिल पे लिखा सिर्फ नाम तेरा।
खुदा जाने मोहब्बत कौन-सी मंजिल को कहते हैं? न जिसकी इब्तिदा ही है, न जिसकी इंतिहा ही है।
इतनी शिद्दत से मुझको ना देखा करो, लुट ना जाए कहीं मेरी दीवानगी, सनम ऐसे पत्थर ना पूजा करो, मिल ना जाए उसे भी कहीं जिंदगी।
तुमसे कुछ कहूँ तो कह न सकूँगा, दूर तुमसे रहूँ तो रह न सकूँगा, अब बेचैनी दिल की बढ़ रही है, अब तुम्हें देखे बिना रह न सकूँगा।
आदत बदल दूँ कैसे तेरे इंतज़ार की, ये बात अब नहीं मेरे इख़्तियार की, देखा नहीं तुझको फिर भी याद कर लिया, ऐसी बसी है खुशबू दिल में तेरे प्यार की।
अपनी मोहब्बत पे इतना भरोसा तो है मुझे, मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी।
चाँद को अपनी निगाहों में उतारो तो सही, हम चले आयेंगे दिल से पुकारो तो सही, दिल की दहलीज मोहब्बत से सजा रखी है, थोड़ा सा वक़्त हमारे साथ गुजारो तो सही।
ऐ काश कि कोई ऐसा वक़्त भी आये, तू मेरे करीब... हमसफ़र हमख्याल हो, मेरी जुस्तजू बन के रहे हो हर कदम, अब मेरे संग मेरी ज़िंदगी बन के रहो। ~आस्था पंडित
लम्हों में क़ैद कर दे जो सदियों की चाहतें, हसरत रही कि ऐसा कोई अपना तलबगार हो।
मैं चाहता हूँ मैं तेरी हर साँस में मिलूँ, परछाईयों में, धूप में, बरसात में मिलूँ। कोई खुदा के दर पे मुझे ढूंढ़ता फिरे, मैं भी किसी को प्यार की सौगात में मिलूँ। तड़पे हजारों दिल मगर हासिल न मैं हुआ, तू चाहता है मैं तुझे यूँ ही खैरात में मिलूँ।
दिल में कुछ अरमान जगे आँखों में नज़ारे हैं, गर्दिश में सितारे हैं पर आशिक़ हम तुम्हारे हैं, नींदों ने हड़ताल करी और यादों का हंगामा है, जगी हुई हैं आँखें पर इनमें ख्वाब तुम्हारे हैं।
रब से दुआ कर रहा था खुद के लिए, बेसाख्ता लबों पे तेरा नाम आ गया।
कह देना चाँद उनसे वो हमें बेवफ़ा न समझे, आँखों से दूर हैं मगर दिल से जुदा न समझे, भरा है दिल मोहब्बत से मगर मजबूर रहते हैं, मोहब्बत कम न कर देना कि इतनी दूर रहते हैं।
मोहब्बत की नमाज़ों में इमामत एक को सौंपो, इसे तकने उसे तकने से इबादत टूट जाती है।
तेरे प्यार में दो पल की ज़िन्दगी बहुत है, एक पल की हँसी और एक पल की ख़ुशी बहुत है, ये दुनिया मुझे जाने या न जाने, तेरी आँखें मुझे पहचाने मेरे लिए यही बहुत है।
ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो, नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो, लाख़ छुपाओ दुनिया से मुझको ख़बर है, तुम मुझे ख़ुद से भी ज्यादा प्यार करते हो।
कभी तुझको पाने की चाह, कभी तेरे इंतज़ार का लुत्फ़, कभी तेरी याद की परवाह, कभी खामोश सा तकल्लुफ।
दिल की धड़कन को दिखाया नहीं जाता, मोहब्बत की आग को बुझाया नहीं जाता, लाख जुदाई हो इस प्यार में फिर भी, ज़िंदगी का पहला प्यार भुलाया नहीं जाता।
प्यार में मिला हर दर्द उपहार होता है, प्यार वो होता है जिसमें इंतज़ार होता है, सदियों तक इंतज़ार करते हैं वो लोग, जिन्हें अपने प्यार पर ऐतबार होता है।
ज़िंदगी बहुत ख़ूबसूरत है, सब कहते थे, जिस दिन तुझे देखा, यकीन भी हो गया।
तेरे अक्स को इंतज़ार में देखा है, चाहत का असर तेरे प्यार में देखा है, लोग मंदिर-मस्जिद में जिसे ढूँढ़ते हैं, उस खुदा को मैंने यार में देखा है।
सिर्फ ख्वाब नहीं एहसास हो तुम, मेरी किसी दुआ का जवाब हो तुम, मालूम नहीं दूँ क्या नाम तुम्हें अपने जहां में, मेरे लिए तो सारा जहां हो तुम।
अमल से भी माँगा वफ़ा से भी माँगा, तुझे मैंने तेरी रज़ा से भी माँगा, न कुछ हो सका तो दुआ से भी माँगा, कसम है खुदा की खुदा से भी माँगा।
नहीं जो दिल में जगह तो नजर में रहने दो, मेरी हयात को तुम अपने असर में रहने दो, मैं अपनी सोच को तेरी गली में छोड़ आया हूँ, मेरे वजूद को ख़्वाबों के घर में रहने दो।
तुम हँसते हो तो मुझे हँसाने के लिए, तुम रोते हो तो मुझे रुलाने के लिए, एक बार हमसे रूठ कर तो देखिये, मर जायेंगे आपको मनाने के लिए।
मेरी आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है, फिर भी मेरे प्यार पर उसको शक आज भी है, नाव में बैठ कर धोये थे उसने हाथ कभी, पानी में उसकी मेहँदी की महक आज भी है।
मैने सब कुछ पाया है बस तुझको पाना बाकी है, कुछ कमी नहीं जिंदगी में बस तेरा आना बाकी है।
तेरी धड़कन ही ज़िंदगी का किस्सा है मेरा, तू ज़िंदगी का एक अहम हिस्सा है मेरा, मेरी मोहब्बत तुझसे सिर्फ लफ़्ज़ों की नहीं है, तेरी रूह से रूह तक का रिश्ता है मेरा।
आपके नाम ये खुला पैगाम लिखते हैं, आपकी याद में गुजरी वो शाम लिखते हैं, वो कलम भी आपकी दीवानी हो जाती है, जिससे हम आपका नाम लिखते हैं।
कोई खुशनुमां सा मौसम हो तुम, दिल के पतझड़ का सावन हो तुम। रहते हो यूँ ही मेरे दिल के आस पास, दिल में दिल की खुशी का कारण हो तुम। महक तुम्हारी बिखरी है हवाओं में, मुझे भी महका कर बहका रहे हो तुम। फूल सा कोमल है मेरा दिल-ए-नादान, दिल की सरहद के निगहबान हो तुम। अक्स तुम्हारा समाया है मुझमे इस कदर, आईना भी देखती हूँ तो नज़र आते हो तुम। ना जाने कौनसा रिश्ता है तेरे मेरे बीच, मुझे पूरा करके मुझमे हम हो गए हो तुम। रात सी फैली हैं खामोशियाँ मेरे दिल पर, मेरी हर तन्हाई की महफ़िल हो तुम। तुमसे ही बना है मेरी मोहब्बत का वजूद, जो भूल कर भी न भूली जाए वो दास्ताँ हो तुम।
तुम आओ और कभी दस्तक तो दो इस दिल पर, प्यार उम्मीद से कम हो तो सज़ा-ए-मौत दे देना।
प्यार दिल में जगा बैठे जो होगा देखा जायेगा, तुम्हें अपना बना बैठे जो होगा देखा जायेगा, हमें मालूम था दुनिया हमें बदनाम कर देगी, लो अब पर्दा हटा बैठे जो होगा देखा जायेगा।
दुनिया तेरे वजूद को करती रही तलाश, हमने तेरे ख्याल को दुनिया बना लिया।
लम्हे ये सुहाने साथ हो न हो, कल में आज ऐसी बात हो न हो, आपसे प्यार हमेशा दिल में रहेगा, चाहे पूरी उम्र मुलाकात हो न हो।
चलो माना कि हमें प्यार का इज़हार करना नहीं आता, जज़्बात न समझ सको इतने नादान तो तुम भी नहीं।
दिल ही दिल में तुम्हें प्यार करते हैं, चुप-चाप मोहब्बत का इजहार करते हैं, ये जानते हुए भी आप मेरी किस्मत में नहीं, पर पाने की कोशिश बार-बार करते है।
राह-ए-वफ़ा में इक ऐसा मुक़ाम भी आये, तेरे सिवा किसी और की जुस्तजू भी न रहे।
जिसको चाहो उसे चाहत बता भी देना, कितना प्यार है उससे ये जता भी देना, कि दिल उसका कहीं और ना लग जाए, करके इज़हार उसके दिल को चुरा भी लेना, गलती से रूठे कभी तो उसे मना भी लेना, कि बहुत हसीन होता है ये प्यार का रिश्ता, कभी ग़लती से भी इसे तोड़ ना लेना।
वो किताब लौटाने का बहाना तो लाखों में था, लोग ढूढ़ते रहे सबूत पैगाम तो आँखों में था।
अब कैसे कहें कि अपना बना लो मुझको, अपनी बाहों की क़ैद में समा लो मुझको, एक पल भी बिन तुम्हारे काटना है मुश्किल, अब तो मुझसे ही चुरा लो मुझको।
तमन्नाओं के ये दिए जलते रहेंगे, मेरी आँखों से आँसू निकलते रहेंगे, आप शमां बनके दिल में रौशनी तो करो, हम तो मोम बनकर पिघलते रहेंगे।
प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे, चाह कर भी आपको भुला न सकेंगे, तुम ही हो मेरे लबों की हँसी... तुमसे बिछड़े तो फिर मुस्कुरा न सकेंगे।
किसी मोड़ पर तेरा दीदार हो जाये, काश तुझे मुझ पर ऐतबार हो जाये, तेरी पलकें झुके और इकरार हो जाये, काश तुझे भी मुझसे प्यार हो जाये।
भंवर से निकलकर किनारा मिला है, जीने को फिर से एक सहारा मिला है, बहुत कशमकश में थी ये ज़िंदगी मेरी, उस ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है।
ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे, तू बहुत देर से मिला है मुझे, तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल, हार जाने का हौसला है मुझे।
मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है, हर दुआ में बस तेरी ही वफ़ा माँगी है, जिस प्यार को देख कर जलते हैं यह दुनिया वाले, तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।
राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको, दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत, नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर, यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।
दिल पे आए हुए इल्ज़ाम से पहचानते हैं, लोग अब मुझ को तेरे नाम से पहचानते हैं।
नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की, जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की, सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे, हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।
उसके लिये तो मैंने यहाँ तक दुआएं की है, कि कोई उसे चाहे भी तो बस मेरी तरह चाहे।
तेरे शहर में आ कर बेनाम से हो गए, तेरी चाहत में अपनी मुस्कान ही खो गए, जो डूबे तेरी मोहब्बत में तो ऐसे डूबे, कि जैसे तेरी आशिक़ी के गुलाम ही हो गए।
क्यूँ किसी से इतना प्यार हो जाता है, एक दिन का भी इंतजार दुश्वार हो जाता है, लगने लगते है अपने भी पराए, जब एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है।
हम भी कुछ प्यार के गीत गाने लगे हैं, जब से ख़्वाबों में मेरे वो आने लगे हैं।
तेरे रंग में ऐसे रंगीन हो गए हैं हम, कि तेरे बिना जिंदगी के रंग फीके लगेंगे।
अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं, और अगर मेरे थे तो मुझे मिले क्यों नहीं।
तपती दोपहरी, गरम रेत पर... ठंडे पानी की बूँदों जैसा काम कर गई... तेरी आवाज़ जो कल सुनी मैंने...।
नजरों को तेरे प्यार से इंकार नहीं है, अब मुझे किसी और का इंतज़ार नहीं है, खामोश अगर हूँ मैं तो ये वजूद है मेरा तुम ये न समझना कि तुमसे प्यार नहीं है।
आसमान पे चाँद जल रहा होगा, किसी का दिल मचल रहा होगा, उफ़ ये मेरे पैरों में चुभन कैसी है, जरूर वो काँटों पर चल रहा होगा।
माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये, एक बार जी के तो देखो हमारे लिये, दिल की क्या औकात आपके सामने, हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!
रग-रग में इस तरह से समा कर चले गये, जैसे मुझ ही को मुझसे चुराकर चले गये, आये थे मेरे दिल की प्यास बुझाने के वास्ते, इक आग सी वो और लगा कर चले गये।
मुझे इश्तिहार सी लगती हैं, ये मोहब्बतों की कहानियाँ जो कहा नहीं, वो सुना करो, जो सुना नहीं, वो कहा करो।
गुलाब के फूल को हम कमल बना देते, आपकी एक अदा पर कई गजल बना देते, आप ही हम पर मरती नहीं... वरना आपके घर के सामने ताजमहल बना देते।
उदास आपको देखने से पहले ये आँखे न रहें, खफा हो आप हमसे तो ये हमारी साँसें न रहें, अगर भूले से भी ग़म दिए हमने आपको, आपकी जिंदगी में हम क्या हमारी यादें भी न रहें।
खुशियों की दामन में आँसू गिराकर तो देखिये, ये रिश्ता कितना सच्चा है आजमा कर तो देखिये, आपके रूठने से क्या होगी मेरे दिल की हालत, किसी आइने पर पत्थर गिराकर तो देखिये।
दिन रात हम वो हर काम लिख लेते हैं, तेरी याद में गुजरी हर शाम लिख लेते हैं, तुझे देखे बिना इक पल भी कटता नहीं, अकेले में हथेली पे तेरा नाम लिख लेते हैं।
ना जाने इतनी मोहब्बत कहाँ से आई है उसके लिये, कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मुझसे रूठ जाता है।
अच्छा सुनो ना... जरुरी नहीं हर बार शब्द ही हों... कभी ऐसा भी हो कि मैं सोचूं... और तुम समझ लो!
खामोशियों से मिल रहे, खामोशियों के जवाब, अब कैसे कहूँ कि उनसे मेरी बात नहीं होती।
खुदा करे वो अचानक सामने आकर, मेरे लबों को कुछ नए सवाल दे जायें।
लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझ से, तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझ से।
गिला भी तुझ से बहुत है, मगर मोहब्बत भी, वो बात अपनी जगह है, ये बात अपनी जगह।
तूने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी, मैंने मोहब्बत तुझसे भी ज्यादा की थी, अब किसे कहोगे मोहब्बत की इन्तेहाँ, हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।
मुझे खींच ही लेती है हर बार उसकी मोहब्बत, वरना बहुत बार मिला हूँ आखिरी बार उससे।
दिल में छुपी यादों में संवारूँ तुझको, तू दिखे तो आँखों में उतारूँ तुझको, तेरे नाम को लव पर ऐसे सजाया है, सो भी जाऊं तो ख्वाबों में पुकारूँ तुझको।
ऐ सनम मैं तेरे लिए बदनाम हो जाऊं, तू अपनी ओर खींचे वो लगाम हो जाऊं, किसी और मंजिल की चाह नहीं मुझको, सिर्फ तेरी ही गलियों में गुमनाम हो जाऊं।
दिल तड़पता है इक ज़माने से, आ भी जाओ किसी बहाने से, बन गये दोस्त भी मेरे दुश्मन, इक तुम्हारे क़रीब आने से। जब अपना तुम्हें बना ही लिया, कौन डरता है फिर ज़माने से, तुम भी दुनिया से दुश्मनी ले लो, दोनों मिल जाएं इस बहाने से। चाहे सारे जहान मिट जाएं, इश्क मिटता नहीं मिटाने से।
सच्ची मोहब्बत मिलना भी तकदीर होती है, बहुत कम लोगों के हाथों में ये लकीर होती है।
तुम्हारे प्यार का रोग नहीं जाता कसम ले लो, गले में डाल कर मैंने सैकड़ों ताबीज़ देखे हैं।
यूँ हर पल हमें सताया न कीजिये, यूँ हमारे दिल को तड़पाया न कीजिये, क्या पता कल हम हों न हों इस जहॉ में, यूँ नजरें हमसे आप चुराया न कीजिये।
दिल के हर कोने में बसाया है आपको, अपनी यादों में हर पल सजाया है आपको, यकीं न हो तो मेरी अॉखों में देख लीजिये, अपने अश्कों में भी छुपाया है आपको।
पता नहीं हमारे दरमियान यह कौन सा रिश्ता है, लगता है कि सालों पुराना अधूरा कोई किस्सा है। ------------------------------------------- तुम्हारे साथ आजकल यूँ हर जगह रहता हूँ मैं, हद से ज्यादा सोचूं तुम्हें बस यहीं सोचता हूँ मैं। ------------------------------------------- तुम्हारी तस्वीरों में मुझे अपना साया दिखता है, महसूस करता है जो यह मन वहीं तो लिखता है। ------------------------------------------- तुम्हारी आवाज़ सुनने को हर पल बेक़रार रहता हूँ, नहीं करूँगा याद तुम्हें मैं खुद से हर बार कहता हूँ। ------------------------------------------- नाराज़ ना होना कभी बस यहीं एक गुज़ारिश है, महकी हुई इन साँसों की साँसों से सिफ़ारिश है। ------------------------------------------- बदल जाए चाहे सारा जग पर ना बदलना तुम कभी, ख़्वाबों के खुशनुमा शहर में मिलने आना तुम कभी।
तेरे रोज के वादों पे मर जायेंगे हम, यूँ ही गुजरी तो गुजर जायेंगे हम।
रह न पाओगे भुला कर देख लो, यकीं न आये तो आजमा कर देख लो, हर जगह महसूस होगी मेरी कमी, अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।
रहा नहीं जाता सनम एक पल भी दूर तुमसे, उम्र सारी बिछड़ कर सनम हम कैसे गुजारेंगे। तड़प कर टूट ही जाएगी मेरे दिल से मेरी साँसें, कफ़न में लिपट कर भी सनम तुझको पुकारेंगे। नशे में चूर होगी तू किसी ग़ैर की बांहों में, दबाकर लकड़ियों में जब मुझे दुनिया जलायेगी। छोड़ देंगे तेरी दुनिया नजर तुझको ना आएंगे, खुदा के पास जाकर के दास्ताँ तेरी सुनाएंगे। अगर दी उसने ज़िन्दगी उतरे फिर से ज़मीं पर, तो ये वादा रहा तुझसे तुझे हम फिर से चाहेंगे।
मेरी आँखों में तुम अपनी परछाइयाँ देख लेना, फुरसत मिले तो दिल की वीरानियाँ देख लेना, तुम नहीं जानती गर क्या है तुम्हारी अहमियत, जरा पलटकर तुम हमारी कहानियाँ देख लेना।
तेरी आँखों में जब से मैंने अपना अक्स देखा है, मेरे चेहरे को कोई आइना अच्छा नहीं लगता।
कतरा-कतरा मैं बहकता हूँ तिनका-तिनका मैं बिखरता हूँ, रोम-रोम तू महकता है, जर्रा-जर्रा मैं तुझमें पिघलता हूँ।
वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है, जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है, निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये, ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।
बेहतरीन लव शायरी - जाने कितनी रातों की नीदें ले गया वो, जो पल भर मौहब्बत जताने आया था।
अभी कमसिन हैं जिदें भी हैं निराली उनकी, इसपे मचले हैं हम कि दर्द-ए-जिगर देखेंगे।
मोहब्बत खुद बताती है, कहाँ किसका ठिकाना है, किसे ऑखों में रखना है, किसे दिल मे बसाना है।
सोचा नहीं अच्छा बुरा, देखा सुना कुछ भी नहीं, माँगा ख़ुदा से हर वक़्त तेरे सिवा कुछ भी नहीं, जिस पर हमारी आँख ने, मोती बिछाये रात भर, भेजा वही कागज़ उसे, हमने लिखा कुछ भी नहीं।
ना हीर की तमन्ना है, ना परियों पर मरता हूँ, एक भोली-भाली सी लड़की है, मैं जिससे मोहब्बत करता हूँ।
सितम को हम करम समझे, जफा को हम वफा समझे, जो इस पर भी न समझे वह तो उस बुत को खुदा समझे।
हर साँस में उनकी याद होती है, मेरी आंखों को उनकी तलाश होती है, कितनी खूबसूरत है चीज ये मोहब्बत, कि दिल धड़कने में भी उनकी आवाज होती है।
मेरी ये बेचैनियाँ... और उन का कहना नाज़ से, हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें।
अक्सर ठहर कर देखता हूँ अपने पैरों के निशान को, वो भी अधूरे लगते हैं... तेरे साथ के बिना।
ऐ जिंदगी मुझसे दगा ना कर मैं जिंदा रहूं ये दुआ न कर कोई छूता है तुझको तो होती है जलन ऐ हवा तू भी उसे छुआ न कर।
हर साँस में उनकी याद होती है, मेरी आंखों को उनकी तलाश होती है, कितनी खूबसूरत है चीज ये मोहब्बत, कि दिल धड़कने में भी उनकी आवाज होती है।
मत कर हिसाब किसी के प्यार का, कहीं बाद में तू खुद ही कर्ज़दार न निकले।
काग़ज़ पे तो अदालत चलती है... हमने तो तेरी आँखो के फैसले मंजूर किये।
मुझे उस जगह से भी मोहब्बत हो जाती है, जहाँ बैठ कर एक बार तुम्हें सोच लेता हूँ।
​मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात समझता हूँ​, मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बात समझता हूँ​, कब पूछा मैंने ​कि ​क्यूँ दूर हो मुझसे​, मैं दिल रखता हूँ तेरे हालात समझता हूँ​।
मोहब्बत की भी देखों ना, कितनी अजीब कहानी है, जहर तों पिया मीरा ने, फिर भी राधा ही दिल की रानी हैं।
उसके साथ रहते रहते हमे चाहत सी हो गयी, उससे बात करते करते हमे आदत सी हो गयी, एक पल भी न मिले तो न जाने बेचैनी सी रहती है, दोस्ती निभाते निभाते हमे मोहब्बत सी हो गयी।
चांदनी रात में बरसात बुरी लगती है... और महबूबा रूठ जाये तो हर बात बुरी लगती है।
बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो, जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो।
तुम तो अपने घर के थे तुमसे कोई पर्दा न था लेकिन, जो दिल की बात थी ज़ालिम वही मुँह से नहीं निकली।
काश तू चाँद मैं तारा होता, आसमान पे एक आशियाना हमारा होता, लोग तुम्हें दूर से देखते, पास आने का हक़ सिर्फ हमारा होता।
हमारे आँसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं, इसी अदा से वो मेरे दिल को चुराते हैं, हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को, बस इसी उम्मीद में खुद को रुलाते हैं।
भूलकर भी तुझे न भूल पायेगें हम, बस यही एक वादा निभा पायेगें हम, खुद को भी मिटा देंगे जहान से लेकिन, तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम।
खुद को वो चाहे लाख मुकमल समझे, लेकिन मेरे बिना वो मुझे अधूरा ही लगता है!
बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह, हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं, ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक, कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं।
दिल की धड़कन और मेरी सदा है वो, मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है वो, चाहा है उसे मैंने चाहत से बढ़ कर, मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है वो।
तुम्हे जो याद करता हुँ, मै दुनिया भूल जाता हूँ । तेरी चाहत में अक्सर, सभँलना भूल जाता हूँ ।। तुम्ही से प्यार करता हूँ, तुम्ही पे जान देता हूँ । फिर भी न जाने क्युँ मैं, ये कहना भूल जाता हूँ ।। तेरे स्पर्श से ही रिचाये अवतरित होती । परन्तु मैं उन्हे वेदो में, गढ़ना भूल जाता हूँ ।। मुझे बस याद रहते हैं, तेरे वो प्रेम के चुम्बन । मगर मैं फिर उन्हे, होठो पे लाना भूल जाता हूँ ।। याद हैं तेरा शहर, वो मदमस्त अल्लड़ चाल भी । न जाने क्यों तेरा, हंस कर पलटना भूल जाता हूँ ।। मेरी स्मृति में छपी हो तुम, तरंगे वायु की बन के । तेरी मोहिनी पे मैं, तुझे भी भूल जाता हूँ ।।
काश ये पल थम जाता इस पल को जिंदगी भर जीने को मन करता है। मगर जो थम जाये वो जिंदगी नही।
गीत आप का होगा, गजल हम बनायेगे, रास्ते आप चुनेंगे, मंजिल हम बनायेगे हाथ आप देंगे साथ हम निभाएंगे.
जोश-ए-जुनूँ में लुत्फ़-ए-तसव्वुर न पूछिए, फिरते हैं साथ साथ उन्हें हम लिए हुए।
नफरतों के जहान में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं, दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने।
बरबाद कर देती है मोहब्बत, हर मोहब्बत करने वाले को, क्योंकि इश्क़ हार नही मानता, और दिल बात नही मानता।
जो रहते हैं दिल में वो जुदा नहीं होते, कुछ एहसास लफ़्ज़ों से बयां नहीं होते, एक हसरत है कि उनको मनाये कभी, एक वो हैं कि कभी खफा नहीं होते।
बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी, फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।
सितारों को आँखों में महफूज रखना, बड़ी देर तक रात ही रात होगी, मुसाफिर हैं हम, मुसाफिर हो तुम भी, किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी।
टूटी हुई डाली का दर्द उसकी साख से पूँछो, धरती की प्यास बरसात से पूँछो, मैं आपको कितना चाहता हूँ, ये मुझसे नहीं अपने आप से पूँछो।
सो गाइस ये हिंदी शायरी कलेक्शन था लव हिंदी शायरी के बारे में. मैं आशा करता हूँ आपको की ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको ये हिंदी शायरी बहुत पसंद आयी होगी तो इन्हे शेयर कीजिये और निचे कमेंट कीजिये और हाँ अगर आपके पास कोई शायरी है तो आप कमेंट में जरूर लिखे, हम उस शायरी को यहाँ पोस्ट करेंगे आपके नाम के साथ.  

No comments